सवागत है

आपका "आज का आगरा" ब्लॉग पर सवागत है यह ब्लॉग मेरे मम्मी-पापा को समर्पित!..."वन्दे मातरम्" .सवाई सिंह

फ़ॉलोअर

आप का लोक प्रिय ब्लॉग आज का आगरा अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



गुरुवार, जुलाई 7

आप सभी की शुभकामनाये हमारे साथ है.


 आप सभी ब्लॉगर साथियों को मेरा सादर नमस्कार

आदरणीय रेखा जी,
 आदरणीय राजेश कुमारीजी, 
आदरणीय डॉ॰ मोनिका शर्माजी, 
आदरणीय शालिनी कौशिकजी,
आदरणीय श्री कैलाश सी शर्माजी, 
आदरणीय श्री कुंवर कुसूमेशजी, 
आदरणीय श्री राकेश कुमारजी, 
आदरणीय श्री भूषणजी,
प्रिय चैतन्य शर्मजी,
आदरणीय श्री एस पि सिंह, 
प्रिय सोनूजी,  
प्रिय कुलदीपजी, 
प्रिय योगेन्द्रजी,  
आदरणीय श्री राजेश करवालजी, 
 
आप सभी की शुभकामनाये मेरी छोटी बहन के साथ है और
आप सभी का ह्र्दय से बहुत बहुत आभार ! धन्यवाद

 ************
{सौजन्य गूगल छवियाँ)    

चिंता वहां तक तो वांछनीय है जहाँ तक वह रचनात्मक ध्येय की पूर्ति के लिए विविध उपायों का मनन करने तक सीमित हो, परन्तु जब चिंता इतनी बढ़ जाये कि वह शरीर को खाने लगे तो वह अवांछनीय हो जाती है क्योंकि फिर तो वह अपने ध्येय को ही हरा बैठती है! 
          
                                       महात्मा गाँधी 

12 टिप्‍पणियां:

  1. तब चिंता चिता के कतीब ले जाती है मनुश्य को !!

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीय चंद्रमौलेश्वर प्रसाद जी
    आपका मेरे पोस्ट पर आने और टिप्पणी करने के लिए और आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और शुक्रिया और आपका सहयोग
    एवं स्नेह का सदैव आकांक्षी रहूँगा….. धन्यवाद. सवाई

    जवाब देंहटाएं
  3. बेनामी7/07/2011 03:22:00 pm

    कहते हैं चिंता, चिता के ही समान होती है

    जवाब देंहटाएं
  4. सच है हमें अधिक चिंता करने के बजाय पुरे आत्मविश्वास और लगन से कर्म करते रहना चाहिए

    जवाब देंहटाएं
  5. चिंता करने की अपेक्षा कर्म में लगे रहना श्रेयस्कर है.

    जवाब देंहटाएं
  6. sach kaha hai -chita to hari nam ki aur n chinta das ..........bahut sateek prastuti .aabhar

    जवाब देंहटाएं
  7. bahut bada sach chipa hai is kathan me m.gandhi ji ka bahut sunder updesh.post karne ke liye thanks.

    जवाब देंहटाएं
  8. आप का बलाँग मूझे पढ कर आच्चछा लगा , मैं बी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    मै नइ हु आप सब का सपोट chheya

    जवाब देंहटाएं
  9. आदरणीय राकेश कौशिक जी

    आदरणीय भूषण जी

    चैतन्य शर्माजी

    मेरे पोस्ट पर आने और टिप्पणी करने के लिए आपका आभार

    जवाब देंहटाएं
  10. आदरणीय शिखा कौशिक जी

    आदरणीय रेखा जी

    आदरणीय विद्या जी

    आदरणीय राजेश कुमारी जी

    मेरे पोस्ट पर आने और टिप्पणी करने के लिए आपका आभार

    जवाब देंहटाएं
  11. pehla sukh nirogi kaaya. kaaya nirogi hai to
    sab sadhya hai. chinta aur nirogi kaaya ki dosti
    nahin hoti.

    जवाब देंहटाएं

अपनी टिप्पणी

अपनी टिप्पणी के साथ चित्र भी भेजें
[im] चित्र भेजने के लिए कोड इस प्रकार लिखें [/im]
[ma] टिप्पणी को चलते हुए दिखाएं इस कोड से [/ma]
[co="red"] रंगीन टिप्पणी लिए कोड इस प्रकार लिखें [/co]
[si="5"] टिप्पणी बड़े फाँट साईज में करने के लिए कोड [/si]
[card="yellow"] टिप्पणी की बैकग्राउंड बदलने के लिए कोड [/card]

[hi="yellow"] टिप्पणी के कुछ हिस्से को हाईलाईट करने के लिए ये कोड [/hi]

आप उपरोक्त सभी प्रकार के उदाहरण देखने के लिए यहाँ पर कलिक करें |

लिखिए अपनी भाषा में

Subscribe(सदस्यता लें)

Recommend on Google

सवाई सिंह को ब्लॉग श्री का खिताब मिला(उतराखंड से )