सवागत है

आपका "आज का आगरा" ब्लॉग पर सवागत है यह ब्लॉग मेरे मम्मी-पापा को समर्पित!..."वन्दे मातरम्" .सवाई सिंह

समर्थक

आप का लोक प्रिय ब्लॉग आज का आगरा अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Widget by:Manojjaiswal

अवलोकन हेतु यहाँ प्रतिदिन पधारे !!

LATEST:

विजेट आपके ब्लॉग पर

बुधवार, सितंबर 21

यदि आप अमीर होने की अनुभूति चाहते हैं!


यदि आप अमीर होने की अनुभूति चाहते हैं तो उन वस्तुओं पर विचार करें जो जिन्हें पैसे से नहीं खरीदा जा सकता है!

     अज्ञात

11 टिप्‍पणियां:

  1. प्रभु चरणों में ही इसकी अनुभूति हो सकती है| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  2. sateek satya santushti to milegi chahe kalpna lok me hi sahi.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिसे खरीदा नहीं जा सकता और वह मेरे पास है तो क्या बात है !!
    उत्तम विचारों वाली आपकी पोस्ट्स बहुत प्रेरणादायक हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिलकुल सही है .....बहुत प्रेरणादायक पोस्ट.. धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं

  5. फूलों की सुगंध हवा के प्रतिकूल नहीं फैलती पर सद्गुणों की कीर्ति दसों दिशाओं में फैलती है -



    अगर जीवन के किसी भी मोड पर आपके मन में कैसा भी भेदभाव आता है
    तो समझ लेना आप ईश्‍वर पर विश्‍वास नहीं अन्‍धविश्‍वास करते हो/



    जब हमें अपने दोष दिखाई देने लगें तब ही यह मानना चाहिये कि हम पर अब प्रभु की कृपा बरसी है,
    स्वंय के दोष दिखाई देना ही प्रभु की कृपा का सुफ़ल है

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सही लिखा है अज्ञात

    उत्तर देंहटाएं
  7. 1. एक काम के लिए दस व्यक्तियों को कहने का
    मतलब है आप दस व्यक्तियों पर ही अविश्वास कर रहे हैं। एक अच्छा चुनों, उस
    पर विश्वास करो, फिर चाहे वो आदमी हो या ईश्वर। ईश्वर पर अगर विश्वास करते
    हो तो सबको छोड़ो। आदमी आपका बुरा सोच सकता है, पर ईश्वर कभी नहीं।



    2. हर काम पूर्णता से करो। चाहे वह पाप हो या पुण्य। प्यार हो या शत्रुता। ईश्वर पूर्ण है, इसीलिए उसे अपूर्णता बिल्कुल पसंद नहीं।



    3. कोई भी अनैतिक काम करने से पहले याद रखो; कोई है, जो आपको देख रहा है। कोई है, जो आपको सुन रहा है, और वो है- ईश्वर।



    4.
    उनसे कभी मत मिलो जो आपसे बेमन मिलते हैं, फिर चाहे वो देवता ही क्यों न
    हों। दूर रहो उनसे जो आपको स्नेह, सत्कार और शुभकामना भी नहीं दे सकते हैं।



    5. सारी दुनिया के साथ रहने से अच्छा है आदमी स्वयं के साथ रहे।



    6. 'मांगना और चाहना' दोनों ही आदमी को को कमज़ोर करते हैं। कोशिश करो और इन दोनों से बचो।



    7. जो ईश्वर से बार-बार मांगते हैं, उन्हें देने में ईश्वर विचार करता है। जो बिल्कुल नहीं मांगते, उन्हें तत्काल दे देता है।


    8.
    जीवन में एक व्यक्ति ऐसा चुनों; जिस पर आप श्रद्धा और विश्वास रखते हों।
    जिसकी बात व निर्णय आपके लिए हर स्थिति में मान्य व स्वीकार्य हों, चाहें
    वो सही हो या गलत। इससे आप अनिर्णय की स्थिति से तो बच ही जाएंगे, साथ ही
    उसके निर्णय में ईश्वर का प्रति बिम्ब देखेंगे।


    9. जीवन में किसी का
    खान, अपमान और अहसान कभी नहीं भूलना चाहिए। ईश्वर और माँ को छोड़कर मौका
    आने पर सबका हिसाब-किताब चुकता करना चाहिए, फिर वो स्वयं का पिता ही क्यों न
    हो।


    10. चौबीस घंटे में एक बार मृत्यु पर विचार अवश्य करना चाहिए; इससे जीवन में सच और संतुलन बना रहता है।



    11. 'प्यार और यार' (मित्र) के साथ 'शर्त' और 'अर्थ' नहीं जोड़ना चाहिए।


    12. मन पर 'भूल और दोषों' की धूल जमी रहती है। इसलिए मन की शुद्धि के लिए तत्काल गलती स्वीकार करनी चाहिए।



    13. अपने जीवन को आईने की तरह साफ-बेदाग रखो, क्योंकि कल तुम्हारे बच्चे उसमें अपना चेहरा देखेंगे।



    14. अच्छा करना ही नहीं, बल्कि अच्छा सोचना भी ईश्वर की प्रार्थना है।



    15. व्यक्ति का कार्य- व्यवहार और उपस्थिति महबूबा की तरह होनी चाहिए, जिसके आने से बहार आए और जाने से बहार जाए।



    16. अपने क्षेत्र का श्रेष्ठ प्राप्त करके उस क्षेत्र को छोड़ देना चाहिए।



    17.
    आदमी की सबसे बड़ी और पहली प्राथमिकता है, देश। उसके बाद राज्य, क्षेत्र,
    समाज और घर। लेकिन इन सबसे भी बड़ी प्राथमिकता है, वह है,
    मनुष्यता-आदमियत-इंसानियत।


    18. अनुशासन और ईमान आत्मा का विषय है; जो दिन और रात में समान रहता है, समान दिखता है।


    19. अगर किसी ने आपका बुरा किया है, कर रहा है या करना चाहता है, तो आप तटस्थ रहकर ईश्वर पर छोड़ो और उसके निर्णय की प्रतीक्षा करो।



    20. आप जिस देवता की आराधना करते हैं, उसके गुणों का अंश मात्र भी अपना लें तो आपकी आराधना सार्थक हो जाएगी।
    sawaiji ok ki or

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सभी ब्लाग में आए और अपना अमूल्य समय देते हुए आपने स्नेह के जो बोल लिखे हैं आपका बहुत बहुत शुक्रिया मैं बहुत आभारी हूँ!

    उत्तर देंहटाएं

अपनी टिप्पणी

अपनी टिप्पणी के साथ चित्र भी भेजें
[im] चित्र भेजने के लिए कोड इस प्रकार लिखें [/im]
[ma] टिप्पणी को चलते हुए दिखाएं इस कोड से [/ma]
[co="red"] रंगीन टिप्पणी लिए कोड इस प्रकार लिखें [/co]
[si="5"] टिप्पणी बड़े फाँट साईज में करने के लिए कोड [/si]
[card="yellow"] टिप्पणी की बैकग्राउंड बदलने के लिए कोड [/card]

[hi="yellow"] टिप्पणी के कुछ हिस्से को हाईलाईट करने के लिए ये कोड [/hi]

आप उपरोक्त सभी प्रकार के उदाहरण देखने के लिए यहाँ पर कलिक करें |

लिखिए अपनी भाषा में

Subscribe(सदस्यता लें)

Recommend on Google