सवागत है

आपका "आज का आगरा" ब्लॉग पर सवागत है यह ब्लॉग मेरे मम्मी-पापा को समर्पित!..."वन्दे मातरम्" .सवाई सिंह

समर्थक

आप का लोक प्रिय ब्लॉग आज का आगरा अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Widget by:Manojjaiswal

अवलोकन हेतु यहाँ प्रतिदिन पधारे !!

LATEST:

विजेट आपके ब्लॉग पर

गुरुवार, जून 7

कोई हस के मरा, कोई रो के मरा, जिन्दगी मगर पाई उसने, जो कुछ हो के मरा |

अमृत सन्देश  

 चित्र armaanokidoli.blogspot.in
जिसका अहंकार चला गया हो वह व्यक्ति किसी को भी खुश कर सकता है|
कर्ज ऐसा मेहमान है जो एक बार आने के पश्चात जाने का नाम नही लेता है |
"इतना ही लो थाली में ,की व्यर्थ न जावे नाली में "|
आदमी का अहम् कई बार उसका सबसे बड़ा शत्रु बन जाता है|
जब आप किसी पर एक अंगुली उठाते है ,तो तीन अंगुलिया आपकी तरफ उठती है|
कोई हस के मरा, कोई रो के मरा, जिन्दगी मगर पाई उसने, जो कुछ हो के मरा |

ये अमृत सन्देश प्रिय दिनेश सिंह राजपुरोहित जी ने भेजे है! 

■─═─═─■ﻶﻍჱﻶﻍ■─═─═─■■─═─═─■ﻶﻍჱﻶﻍ■─═─═─■

21 टिप्‍पणियां:

  1. इतना ही लो थाली में ,की व्यर्थ न जावे नाली में"
    वाह ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके स्नेह के लिए आभार साथ ही प्रतिक्रिया हेतु ....

      हटाएं
  2. आदमी का अहम् कई बार उसका सबसे बड़ा शत्रु बन जाता है|
    जब आप किसी पर एक अंगुली उठाते है ,तो तीन अंगुलिया आपकी तरफ उठती है|
    कोई हस के मरा, कोई रो के मरा, जिन्दगी मगर पाई उसने, जो कुछ हो के मरा |

    एक दम सही बात कही है

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोई हंस के मरा कोई रो के मरा जिंदगी मगर पाई उसने जो कुछ हो के मरा
    बहुत सुन्दर भाव लिए पंक्तियाँ |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आशाजी..आपके स्नेह के लिए आभार साथ ही प्रतिक्रिया हेतु ...

      हटाएं
  4. "इतना ही लो थाली में ,की व्यर्थ न जावे नाली में "|...बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके स्नेह के लिए आभार साथ ही प्रतिक्रिया हेतु ...

      हटाएं
  5. बहुत उपयोगी बातें !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके स्नेह के लिए आभार साथ ही प्रतिक्रिया हेतु ...

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. आपके स्नेह के लिए आभार साथ ही प्रतिक्रिया हेतु ...

      हटाएं
  7. बहुत सार्थक संदेश...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके स्नेह के लिए आभार साथ ही प्रतिक्रिया हेतु ...

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. आपके स्नेह के लिए आभार साथ ही प्रतिक्रिया हेतु ......

      हटाएं
    2. आपके स्नेह के लिए आभार

      हटाएं
  9. बहुत ही बढ़िया और सार्थक
    सन्देश:-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. कोई हस के मरा, कोई रो के मरा, जिन्दगी मगर पाई उसने, जो कुछ हो के मरा |

    सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं

अपनी टिप्पणी

अपनी टिप्पणी के साथ चित्र भी भेजें
[im] चित्र भेजने के लिए कोड इस प्रकार लिखें [/im]
[ma] टिप्पणी को चलते हुए दिखाएं इस कोड से [/ma]
[co="red"] रंगीन टिप्पणी लिए कोड इस प्रकार लिखें [/co]
[si="5"] टिप्पणी बड़े फाँट साईज में करने के लिए कोड [/si]
[card="yellow"] टिप्पणी की बैकग्राउंड बदलने के लिए कोड [/card]

[hi="yellow"] टिप्पणी के कुछ हिस्से को हाईलाईट करने के लिए ये कोड [/hi]

आप उपरोक्त सभी प्रकार के उदाहरण देखने के लिए यहाँ पर कलिक करें |

लिखिए अपनी भाषा में

Subscribe(सदस्यता लें)

Recommend on Google