सवागत है

आपका "आज का आगरा" ब्लॉग पर सवागत है यह ब्लॉग मेरे मम्मी-पापा को समर्पित!..."वन्दे मातरम्" .सवाई सिंह

समर्थक

आप का लोक प्रिय ब्लॉग आज का आगरा अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Widget by:Manojjaiswal

अवलोकन हेतु यहाँ प्रतिदिन पधारे !!

LATEST:

विजेट आपके ब्लॉग पर

शुक्रवार, जून 3

सदविचार ही सद्व्यवहार का मूल है।


 अपनी आन्तरिक क्षमताओं का पूरा उपयोग करें तो हम पुरुष से महापुरुष, युगपुरुष, मानव से महामानव बन सकते हैं।

इन्सान का जन्म ही, दर्द एवं पीडा के साथ होता है। अत: जीवन भर जीवन में काँटे रहेंगे। उन काँटों के बीच तुम्हें गुलाब के फूलों की तरह, अपने जीवन-पुष्प को विकसित करना है।

यदि बचपन व माँ की कोख की याद रहे तो हम कभी भी माँ-बाप के क्रतघ्न नहीं हो सकते।  
भगवान सदा हमें हमारी क्षमता, पात्रता व श्रम से अधिक ही प्रदान करते हैं।

भीड में खोया हुआ इंसान खोज लिया जाता है परन्तु विचारों की भीड के बीहड में भटकते हुए इंसान का पूरा जीवन अंधकारमय हो जाता है।

विचार शहादत, 25;ुर्बानी, शक्ति, शौर्य, साहस व स्वाभिमान है। विचार आग व तूफान है साथ ही शान्ति व सन्तुष्टी का पैगाम है।

सदविचार ही सद्व्यवहार का मूल है।

अपवित्र विचारों से एक व्यक्ति को चरित्रहीन बनाया जा सकता है, तो शुध्द सात्विक एवं पवित्र विचारों से उसे संस्कारवान भी बनाया जा सकता है। 

हमारे सुख-दुःख का कारण दूसरे व्यक्ति या परिस्थितियाँ नहीं अपितु हमारे अच्छे या बूरे विचार होते हैं।
                                    स्वामी रामदेव-

25 टिप्‍पणियां:

  1. अपवित्र विचारों से एक व्यक्ति को चरित्रहीन बनाया जा सकता है, तो शुध्द सात्विक एवं पवित्र विचारों से उसे संस्कारवान भी बनाया जा सकता है baba ramdev ke ye vichar ham sabhi ke liye anukarniy hain.aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बेनामी6/28/2012 08:02:00 am

      for energetic thoughts go to www.facebook.com/vasubirla

      हटाएं
  2. यदि बचपन व माँ की कोख की याद रहे तो हम कभी भी माँ-बाप के क्रतघ्न नहीं हो सकते।
    bahut sundar sandesh yukt vichar.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर विचार पढ़ने को मिले. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बाबा की सीख जीवन में उतारने की ज़रूरत है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर और शानदार विचार पढने को मिले जिसके लिए धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. विचार ही हम सभी की जीवन शैली निश्चित करते है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज आपने बाबा राम देव के सद्विचारों को पोस्ट करके बड़ा पुनीत कार्य किया है |

    बाबा जो कहते हैं वही करके दिखा भी रहे हैं.....

    बाबा के भ्रष्टाचार विरोधी सत्याग्रह का दमन करने के लिए सत्ता के डकैतों ने रामलीला मैदान में जो जघन्य कृत्य किया है , वह अति निंदनीय और अक्षम्य है |

    भारतवर्ष को स्वस्थ बनाने का कार्य यदि ...बाबा राम देव , अन्ना हजारे जैसे संत नहीं करेंगे तो क्या देश को लूटने वाले ये तथाकथित नेता करेंगे ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. बाबा रामदेव के विचार उत्तम हैं. एक जरूरी और सार्थक पोस्ट के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक पोस्ट के लिए आभार!
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - स्त्री अज्ञानी ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. हर युग में नैतिकता एवं संस्कार ही शाश्वत होते हैं . इनके बिना मानव कल्याण की कल्पना भी नहीं की जा सकती.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बाबा रामदेव का अभियान कामयाब हो, आइये दुआ करें.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर विचार| बाबा रामदेव के विचार उत्तम हैं|

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीवन को समृद्ध करने वाले ये विचार बहुत ही अच्छे और अनुकरणीय हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  14. कृपया ब्लॉग की हेडिंग में 'खूबसूरत' की वर्तनी सही कर लें.आप ने ख के साथ छोटे उ की मात्रा लगाई है जो बड़े ऊ की होनी चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  15. विचार तो अच्छे हैं, पर बाबा नहीं। बाबा के कारनामें दुनिया के सामने आ रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत बहुत शुक्रिया आप सभी का जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!

    उत्तर देंहटाएं
  17. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

अपनी टिप्पणी

अपनी टिप्पणी के साथ चित्र भी भेजें
[im] चित्र भेजने के लिए कोड इस प्रकार लिखें [/im]
[ma] टिप्पणी को चलते हुए दिखाएं इस कोड से [/ma]
[co="red"] रंगीन टिप्पणी लिए कोड इस प्रकार लिखें [/co]
[si="5"] टिप्पणी बड़े फाँट साईज में करने के लिए कोड [/si]
[card="yellow"] टिप्पणी की बैकग्राउंड बदलने के लिए कोड [/card]

[hi="yellow"] टिप्पणी के कुछ हिस्से को हाईलाईट करने के लिए ये कोड [/hi]

आप उपरोक्त सभी प्रकार के उदाहरण देखने के लिए यहाँ पर कलिक करें |

लिखिए अपनी भाषा में

Subscribe(सदस्यता लें)

Recommend on Google